अयोध्यासिंह उपाध्याय हरिऔध – जीवन परिचय, रचनाएं, भाषा शैली व साहित्य में स्थान

हेलो दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हमने “अयोध्यासिंह उपाध्याय हरिऔध का जीवन परिचय” (Ayodhya Singh Upadhyay biography in Hindi) के बारे में संपूर्ण जानकारी दी है। इसमें हमने अयोध्या सिंह उपाध्याय का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय, रचनाएं एवं कृतियां, भाषा शैली एवं साहित्य में स्थान और अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध का व्यक्तित्व एवं कृतित्व को भी विस्तार पूर्वक सरल भाषा में समझाया गया है, ताकि आप परीक्षाओं में ज्यादा अंक प्राप्त कर सकें। इसके अलावा इसमें हमने उपाध्याय जी के जीवन से जुड़े प्रश्नों के उत्तर भी दिए हैं, तो आप इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

अयोध्यासिंह उपाध्याय हरिऔध का जीवन परिचय

अयोध्यासिंह उपाध्याय जी का जन्म 15 अप्रैल, सन् 1865 ईस्वी में निजामाबाद, जिला आजमगढ़ (उत्तर प्रदेश) में हुआ था। इनके पिता का नाम पंडित भोलासिंह उपाध्याय तथा माता का नाम श्रीमती रुक्मिणी देवी था। पाँच वर्ष की अवस्था में फारसी के माध्यम से इनकी शिक्षा प्रारम्भ हुई वर्नाक्यूलर मिडिल पास करके ये क्वींस कालेज, बनारस में अंग्रेजी पढ़ने गये, पर अस्वस्थता के कारण अध्ययन छोड़ना पड़ा। स्वाध्याय से इन्होंने हिन्दी, संस्कृत, फारसी और अंग्रेजी में अच्छा ज्ञान प्राप्त कर लिया। निजामाबाद के मिडिल स्कूल के अध्यापक, कानूनगो और काशी विश्वविद्यालय में अवैतनिक शिक्षक के पदों पर इन्होंने कार्य किया। 6 मार्च, सन् 1947 ईस्वी में इनका देहावसान हो गया।

अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध की प्रमुख रचनाएँ

हरिऔधजी द्विवेदी युग के प्रतिनिधि कवि और गद्य लेखक थे। इनकी प्रमुख काव्य रचनाएँ इस प्रकार है— ‘प्रियप्रवास’ (खड़ीबोली का प्रथम महाकाव्य), ‘वैदेही वनवास’ (करुणरस-प्रधान महाकाव्य), ‘पारिजात’ (स्फुट गीतों का क्रमबद्ध संकलन), ‘चुभते चौपदे’, ‘चोखे चौपदे’ (दोनों बोलचाल वाली मुहावरों से युक्त भाषा में लिखित स्फुट काव्य-संग्रह) और ‘रसकलश’ (ब्रजभाषा के छन्दों का संकलन) हैं। ‘अधखिला फूल’ (उपन्यास), ‘ठेठ हिन्दी का ठाठ’ (उपन्यास) ‘रुक्मिणी परिणय’ (नाटक) आदि मौलिक गद्य रचनाओं के अतिरिक्त आलोचनात्मक और अनूदित रचनाएँ भी इनकी हैं।

अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध का साहित्यिक परिचय

हरिऔधजी पहले ब्रजभाषा में कविता किया करते थे, रसकलश’ इसका सुन्दर उदाहरण है। महावीरप्रसाद द्विवेदी के प्रभाव से ये खड़ीबोली के क्षेत्र में आये और खड़ीबोली काव्य को नया रूप प्रदान किया। भाषा, भाव, छन्द और अभिव्यंजना की घिसी-पिटी परम्पराओं को तोड़कर इन्होंने नयी मान्यताएँ स्थापित ही नहीं कीं, अपितु उन्हें मूर्त रूप भी प्रदान किया। इनकी बहुमुखी प्रतिभा और साहस के कारण ही काव्य के भाव पक्ष और कला-पक्ष को नवीन आयाम प्राप्त हुए।

अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’ की काव्यगत विशेषताएँ

वर्ण्य विषय की विविधता हरिऔध जी की प्रमुख विशेषता है। यही कारण है कि इनके काव्य वृत्त भक्तिकाल, रीतिकाल और आधुनिककाल के उज्ज्वल बिन्दु समाहित हो सके हैं। प्राचीन कथानकों में नवीन उद्भावनाओं के दर्शन ‘प्रिय प्रवास’, ‘वैदेही वनवास’ आदि सभी रचनाओं में होते हैं। ये काव्य के ‘शिव’ रूप का सदैव ध्यान रखते थे। इसी हेतु इनके राधा-कृष्ण, राम-सीता भक्तों के भगवान मात्र न होकर जननायक और जनसेवक हैं। लोकमंगल भावना ही कवि के काव्य का श्रृंगार है-

“विपत्ति से रक्षण सर्वभूत का, सहाय होना असहाय जीव का। उबारना संकट से स्वजाति को, मनुष्य का सर्वप्रधान कृत्य है।”

प्रकृति वर्णन – प्रकृति के विविध रूपों और प्रकारों का सजीव चित्रण हरिऔध जी की अन्यान्य विशेषताओं में से एक महत्त्वपूर्ण विशेषता है। आपके काव्य में प्रकृति का आलम्बन रूप में चित्रण हुआ है-

“दिवस का अवसान समीप था, गगन पर कुछ लोहित हो चला। तरु शिखर पर थी अवराजती, कमलिनी-कुल- बल्लभ की प्रभा।”

अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध की भाषा शैली

भाषा की जैसी विविधता हरिऔधजी के काव्य में है, वैसी विविधता महाकवि निराला के अतिरिक्त अन्य किसी के काव्य में नहीं है। इन्होंने कोमलकान्त पदावलीयुक्त ब्रजभाषा- “रसकलश” में संस्कृतनिष्ठ खड़ी बोली – “प्रिय प्रवास” में, मुहावरेयुक्त बोलचाल की खड़ी बोली- “चोखे-चौपदे” और “चुभते चौपदें” में पूर्ण अधिकार और सफलता के साथ प्रयुक्त की है। आचार्य शुक्ल ने इसीलिये इन्हें “द्विकलात्मक कला” में सिद्धहस्त कहा है। इन्होंने प्रबन्ध और मुक्तक शैलियों में सफल काव्य रचनाएँ की हैं। इतिवृत्तात्मक, मुहावरेदार, संस्कृत काव्य, चमत्कारपूर्ण सरल हिन्दी शैलियों का अभिव्यंजना-शिल्प की दृष्टि से सफल प्रयोग भी किया है।

रस – भावुकता के साथ मौलिकता को भी इनके काव्य की विशेषता कहा जा सकता है। हरिऔधजी मूलतः करुण और वात्सल्य रस के कवि थे। करुण रस को ये प्रधान रस मानते थे और उसकी मार्मिक व्यंजना इनके काव्य में सर्वत्र देखने को मिलती है। वात्सल्य और विप्रलम्भ शृंगार के हृदयस्पर्शी चित्र प्रियप्रवास में यथेष्ट है। अन्य रसों के भी सुन्दर उदाहरण इनके स्फुट काव्य में मिलते हैं।

अलंकार एवं छन्द योजना – अलंकारों का सहज और स्वाभाविक प्रयोग इनके काव्य में है। इन्होंने हिन्दी के पुराने तथा संस्कृत छन्दों को अपनाया है। कवित्त, सवैया, छप्पय, दोहा आदि इनके पुराने प्रिय छन्द हैं और इन्द्रवज्रा, शार्दूलविक्रीडित शिखरिणी, मालिनी, वसन्ततिलका, द्रुतविलम्बित आदि संस्कृत वर्णवृत्तों का प्रयोग कर इन्होंने हिन्दी छन्दों के क्षेत्र में युगान्तर ही उपस्थित कर दिया ।

अयोध्यासिंह उपाध्याय हरिऔध का साहित्य में स्थान

उपाध्याय जी ‘कविसम्राट’, ‘साहित्य वाचस्पति आदि उपाधियों से सम्मानित हुए। अपने जीवनकाल में अनेक साहित्य सभाओं और हिन्दी साहित्य सम्मेलन के सभापति रहे। हरिऔध की साहित्यिक सेवाओं का ऐतिहासिक महत्त्व है। निस्संदेह ये हिन्दी साहित्य में खड़ी बोली के उन्नायकों की पंक्ति में एक महान् विभूति हैं।

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *