50+ Objective types Questions and Answers Physics in Hindi | B.Sc. I, Physics III book-Unit 1

50+ Objective types Questions and Answers Physics in Hindi

Q.1 नेटवर्क प्रमेय उपयुक्त है-

(a) सिर्फ ए. सी. नेटवर्कों के लिए
(b) सिर्फ डी. सी. नेटवर्कों के लिए
(c) ए. सी. तथा डी. सी. दोनों नेटवर्कों के लिए
(d) अरेखीय तत्वों वाले नेटवर्कों के लिए

Ans. (c). ए. सी. तथा डी. सी. दोनों नेटवर्कों के लिए

Q.2 नाॅर्टन प्रमेय का दूसरा रूप है-

(a) किरचॉफ का वोल्टता नियम
(b) अध्यारोपण की प्रमेय
(c) व्युत्क्रम प्रमेय
(d) थेवेनिन प्रमेय

Ans. (d) थेवेनिन प्रमेय

Q.3 थेवेनिन तथा नाॅर्टन प्रमेय को नेटवर्क में दिया जा सकता है-

(a) डी. सी. तथा ए. सी. दोनों
(b) डी. सी. केवल
(c) ए. सी. केवल
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (c) ए. सी. केवल

Q.4 शेरिंग सेतु प्रयुक्त किया जाता है-

(a) प्रेरकत्व मापने हेतु
(b) प्रतिरोध मापन हेतु
(c) धारिता मापन हेतु
(d) आवृत्ति मापन हेतु

Ans. (c) धारिता मापन हेतु

Q.5 मैक्सवेल सेतु प्रयुक्त होता है-

(a) प्रेरकत्व मापन हेतु
(b) प्रतिरोध मापन हेतु
(c) धारिता मापन हेतु
(d) आवृत्ति मापन हेतु

Ans. (a) प्रेरकत्व मापन हेतु

Q.6 ए. सी. स्रोत की आवृत्ति ज्ञात करने में उपयोग किया जाता है-

(a) मैक्सवेल सेतु
(b) शैरिंग सेतु
(c) वीन सेतु
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (c) वीन सेतु

Q.7 बन्द परिपथ तकनीक आधारित है-

(a) किरचॉफ के धारा नियम पर
(b) किरचॉफ के वोल्टेज नियम पर
(c) ओम के नियम पर
(d) इनमें से किसी पर नहीं

Ans. (b) किरचॉफ के वोल्टेज नियम पर

Q.8 दो सिरों के बीच थेवेनिन प्रमेय के प्रयोग में VTh बराबर होगा-

(a) शॉर्ट सर्किट टर्मिनल वोल्टेज के
(b) ओपन सर्किट टर्मिनल वोल्टेज के
(c) टर्मिनल के पास की बैटरी के E.M.F. के
(d) परिपथ में प्राप्त नेट वोल्टेज के

Ans. (b) ओपन सर्किट टर्मिनल वोल्टेज के

Q.9 थेवेनिन वोल्टेज का अर्थ है-

(a) आदर्श स्त्रोत वोल्टेज
(b) शॉर्ट सर्किट लोड वोल्टेज
(c) ओपन सर्किट लोड वोल्टेज
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (c) ओपन सर्किट लोड वोल्टेज

Q.10 नॉर्टन धारा का दूसरा नाम है-

(a) शॉर्ट सर्किट लोड धारा
(b) ओपन सर्किट लोड धारा
(c) थेवेनिन धारा
(d) थेवेनिन विभव

Ans. (a) शॉर्ट सर्किट लोड धारा

Q.11 किरचॉफ के नियम लागू होते हैं-

(a) केवल दिष्ट धारा परिपथों में
(b) केवल प्रत्यावर्ती धारा परिपथों में
(c) दिष्ट धारा तथा प्रत्यावर्ती धारा दोनों परिपथों में
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (c) दिष्ट धारा तथा प्रत्यावर्ती धारा दोनों परिपथों में

Q.12 किरचॉफ का प्रथम नियम (धारा नियम) आधारित है-

(a) आवेश के संरक्षण नियम पर
(b) द्रव्यमान तथा ऊर्जा के संरक्षण नियम पर
(c) ऊर्जा के संरक्षण नियम पर
(d) संवेग के संरक्षण नियम पर

Ans. (a) आवेश के संरक्षण नियम पर

Q.13 किरचॉफ का द्वितीय नियम (वोल्टेज नियम) आधारित है-

(a) आवेश के संरक्षण नियम पर
(b) ऊर्जा के संरक्षण नियम पर
(c) संवेग के संरक्षण नियम पर
(d) द्रव्यमान तथा ऊर्जा के संरक्षण नियम पर

Ans. (b) ऊर्जा के संरक्षण नियम पर

Q.14 नॉर्टन समतुल्य नेटवर्क टर्मिनलों के बीच जुड़ी लोड प्रतिबाधा धारा निम्न में से कौन-सी है-

(a) IL = \frac{V}{Z_i + Z_L}
(b) IL = \frac{V}{Z_L}
(c) IL = \frac{V}{Z_i}
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (a) IL = \frac{V}{Z_i + Z_L}

Q.15 निम्न में से नॉर्टन नेटवर्क प्रमेय के लिए कौन-सा सत्य कथन गलत है-

(a) नॉर्टन नेटवर्क प्रमेय थेवेनिन प्रमेय का दूसरा रूप है
(b) थेवेनिन परिपथ तथा नॉर्टन परिपथ दोनों में लोड धाराएं समान है
(c) थेवेनिन प्रतिबाधा एवं नॉर्टन प्रतिबाधा समरूप नहीं है
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (c) थेवेनिन प्रतिबाधा एवं नॉर्टन प्रतिबाधा समरूप नहीं है

Q.16 थेवेनिन नेटवर्क के लिए प्रतिबाधा-

(a) Zi = Z2 + \frac{Z_1Z_3}{Z_1 + Z_3}
(b) Zi = Zi + \frac{Z_2Z_3}{Z_1 + Z_3}
(c) Zi = Z3 + \frac{Z_1Z_2}{Z_1 + Z_2}
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (a) Zi = Z2 + \frac{Z_1Z_3}{Z_1 + Z_3}

Q.17 रैखिक प्रतिबाधा है-

(a) केवल ट्रायोड वाल्व
(b) केवल धारिता
(c) केवल प्रेरकत्व
(d) प्रतिरोध, प्रेरकत्व, धारिता तीनों

Ans. (d) प्रतिरोध, प्रेरकत्व, धारिता तीनों

Q.18 किसी वैद्युत नेटवर्क में निष्क्रिय अवयव होता है-

(a) प्रतिरोध
(b) प्रेरकत्व
(c) धारिता
(d) प्रेरण

Ans. (d) प्रेरण

Q.19 किसी वैद्युत नेटवर्क में सक्रिय अवयव होता है-

(a) प्रतिरोध
(b) धारिता
(c) वोल्टेज स्त्रोत
(d) प्रेरकत्व

Ans. (c) वोल्टेज स्त्रोत

Q.20 नाॅर्टन समतुल्य परिपथ में होता है-

(a) स्थिर धारा स्त्रोत जिसके समांतर क्रम में प्रतिरोध हो
(b) स्थिर धारा स्त्रोत तथा एक वोल्टेज स्त्रोत हो
(c) स्थिर धारा स्त्रोत जिसके श्रेणीक्रम में उच्च प्रतिरोध हो
(d) स्थिर वोल्टेज स्त्रोत जिसके श्रेणीक्रम में एक अल्प प्रतिरोध हो

Ans. (a) स्थिर धारा स्त्रोत जिसके समांतर क्रम में प्रतिरोध हो

Q.21 रैखिक नेटवर्क के टर्मिनल के बीच तुल्य थेवेनिन वोल्टता होती है-

(a) उन टर्मिनलों के बीच खुले परिपथ की टर्मिनल वोल्टता
(b) नेटवर्क की कुल वोल्टता
(c) नेटवर्क के कुल विद्युत वाहक बल के बराबर
(d) उन टर्मिनलों के बीच लघुपथित टर्मिनल वोल्टता

Ans. (a) उन टर्मिनलों के बीच खुले परिपथ की टर्मिनल वोल्टता

Q.22 रैखिक नेटवर्क के टर्मिनलों के बीच तुल्य थेवेनिन प्रतिबाधा होती है-

(a) लोड प्रतिबाधा
(b) उन दोनों टर्मिनलों को खुला रखकर तथा समस्त स्त्रोतों को उनकी आन्तरिक प्रतिबाधाओं से प्रतिस्थापित करने पर प्राप्त प्रतिबाधा
(c) समस्त स्त्रोतों की आन्तरिक प्रतिबाधाओं का योग
(d) उपर्युक्त सभी

Ans. (b) उन दोनों टर्मिनलों को खुला रखकर तथा समस्त स्त्रोतों को उनकी आन्तरिक प्रतिबाधाओं से प्रतिस्थापित करने पर प्राप्त प्रतिबाधा

Q.23 यदि किसी परिपथ में ओमीय प्रतिरोध के साथ प्रेरकत्व अथवा संधारित्र जुड़े हो तो विद्युत वाहक बल आरोपित करने पर परिपथ में धारा-

(a) एकदम अपने अधिकतम मान पर पहुंच जाती है
(b) धीरे-धीरे बढ़कर अपने अधिकतम मान पर पहुंच जाती है
(c) अपने अधिकतम मान पर पहुंच ही नहीं पाती है
(d) प्रवाहित की नहीं होती है

Ans. (b) धीरे-धीरे बढ़कर अपने अधिकतम मान पर पहुंच जाती है

Q.24 L/R की विमाएं होती है-

(a) सेकण्ड की
(b) (सेकंड)-1 की
(c) हेनरी/सेकंड की
(d) सेकंड/हेनरी की

Ans. (a) सेकण्ड की

Q.25 L-R परिपथ का कालांक होता है-

(a) L/R
(b) R/L
(c) RL
(d) 1/RL

Ans. (a) L/R

Q.26 C-R की विमाएं होती है-

(a) समय की
(b) (समय)1 की
(c) लम्बाई की
(d) (लम्बाई)-1 की

Ans. (a) समय की

Q.27 C-R परिपथ का कालांक होता है-

(a) C/R
(b) R/C
(c) RC
(d) 1/RC

Ans. (c) RC

Q.28 निम्नलिखित में से आवृत्ति की विमा वाला संयोग नहीं है-

(a) R/L
(b) 1/RC
(c) 1/√LC
(d) C/L

Ans. (d) C/L

Q.29 L-R परिपथ का कालांक वह समय है जिसमें धारा का मान शून्य से बढ़कर अपने अधिकतम स्थाई मान का-

(a) 50% हो जाता है
(b) 70% हो जाता है
(c) 37% हो जाता है
(d) 63% हो जाता है

Ans. (d) 63% हो जाता है

Q.30 L-R परिपथ में धारा वृद्धि की दर (अथवा धारा क्षय की दर)-

(a) L/R के अनुक्रमानुपाती होती है
(b) L/R के व्युत्क्रमानुपाती होती है
(c) RL के अनुक्रमानुपाती होती है
(d) RL के व्युत्क्रमानुपाती होती है

Ans. (b) L/R के व्युत्क्रमानुपाती होती है

Q.31 L-R परिपथ में धारा वृद्धि का समीकरण है-

(a) i = i0e-Rt/L
(b) i = i0e-t/LR
(c) i = i0(e – e-Rt/L)
(d) i = i0(1 + e-Rt/L)

Ans. (c) i = i0(e – e-Rt/L)

Q.32 L-R परिपथ में धारा व्यय का समीकरण है-

(a) i = i0eRt/L
(b) i = i0eRt/L
(c) i = i0e-t/LR
(d) i = i0et/RL

Ans. (b) i = i0eRt/L

Q.33 L-R परिपथ में धारा की वृद्धि (अथवा क्षय)-

(a) समय के साथ रेखीय अनुक्रमानुपाती होती है
(b) समय के साथ चरघातांकी नियमानुसार होती है
(c) पहले धीरे-धीरे तथा फिर तेजी से होती है
(d) परिपथ धीरे-धीरे प्रेरकत्व L व प्रतिरोध R के मान पर निर्भर नहीं करती है

Ans. (b) समय के साथ चरघातांकी नियमानुसार होती है

Q.34 L-R परिपथ में धारा वृद्धि के दौरान-

(a) जैसे-जैसे धारा बढ़ती है, धारा वृद्धि की दर घटती जाती है
(b) जैसे-जैसे धारा बढ़ती है धारा वृद्धि की दर बढ़ती जाती है
(c) धारा वृद्धि की दर सदैव नियत रहती है
(d) धारा वृद्धि की दर परिपथ के कालांक के अनुक्रमानुपाती होती हैं

Ans. (a) जैसे-जैसे धारा बढ़ती है, धारा वृद्धि की दर घटती जाती है

Q.35 L-R परिपथ में धारा क्षय के दौरान-

(a) जैसे-जैसे धारा बढ़ती है, धारा वृद्धि की दर घटती जाती है
(b) जैसे-जैसे धारा बढ़ती है, धारा वृद्धि की दर बढ़ती जाती है
(c) धारा वृद्धि की दर सदैव नियत रहती है
(d) धारा वृद्धि की दर परिपथ के कालांक के अनुक्रमानुपाती होती है

Ans. (a) जैसे-जैसे धारा बढ़ती है, धारा वृद्धि की दर घटती जाती है

Q.36 L-R परिपथ में धारा की वृद्धि होने से बैटरी द्वारा दी गई ऊर्जा की दर बराबर होती है-

(a) केवल प्रतिरोध में ऊष्मा उत्पन्न होने की दर
(b) केवल कुंडली में चुंबकीय ऊर्जा संचित होने की दर
(c) प्रतिरोध में ऊष्मा ऊर्जा उत्पन्न होने की दर तथा कुंडली में चुंबकीय ऊर्जा संचित होने की दर का योग
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (c) प्रतिरोध में ऊष्मा ऊर्जा उत्पन्न होने की दर तथा कुंडली में चुंबकीय ऊर्जा संचित होने की दर का योग

Q.37 C-R परिपथ में संधारित्र के आवेशन में बैटरी द्वारा दी गई ऊर्जा की दर बराबर होती है-

(a) केवल प्रतिरोध में ऊष्मा ऊर्जा उत्पन्न होने की दर
(b) केवल संधारित्र में विद्युत ऊर्जा संचित होने की दर
(c) प्रतिरोध में ऊष्मा ऊर्जा उत्पन्न होने की दर तथा संधारित्र में विद्युत् ऊर्जा संचित होने की दर का योग
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (c) प्रतिरोध में ऊष्मा ऊर्जा उत्पन्न होने की दर तथा संधारित्र में विद्युत् ऊर्जा संचित होने की दर का योग

Q.38 C-R परिपथ में संधारित्र के आवेशन के दौरान-

(a) जैसे-जैसे आवेश बढ़ता जाता है, आवेश वृद्धि की दर घटती जाती है
(b) जैसे-जैसे आवेश बढ़ता जाता है, आवेश वृद्धि की दर बढ़ती जाती है
(c) आवेश वृद्धि की दर सदैव नियत रहती है
(d) आवेश वृद्धि की दर परिपथ के कालांक के अनुक्रमानुपाती होती है

Ans. (a) जैसे-जैसे आवेश बढ़ता जाता है, आवेश वृद्धि की दर घटती जाती है

Q.39 C-R परिपथ में आवेश वृद्धि की दर (अथवा आवेश क्षरण की दर)-

(a) CR के अनुक्रमानुपाती होती है
(b) CR के व्युत्क्रमानुपाती होती है
(c) C/R के अनुक्रमानुपाती होती है
(d) C/R के व्युत्क्रमानुपाती होती है

Ans. (b) CR के व्युत्क्रमानुपाती होती है

Q.40 L-C परिपथ आवेश क्षरण का समीकरण है-

(a) q = q0e-t/CR
(b) q = q0e(1 – e-t/CR)
(c) q = q0e-tR/C
(d) q = q0et/CR

Ans. (a) q = q0e-t/CR

Q.41 C-R परिपथ में आवेश की वृद्धि (अथवा आवेश का क्षरण)-

(a) समय के साथ रेखीय अनुक्रमानुपात में होता है
(b) समय के साथ चरघातांक के नियमानुसार होता है
(c) पहले धीरे-धीरे तथा फिर तेजी से होता है
(d) परिपथ में लगे धारिता व प्रतिरोध के मान पर निर्भर नहीं करता है

Ans. (b) समय के साथ चरघातांक के नियमानुसार होता है

Q.42 क्षरण विधि द्वारा ज्ञात किया जा सकता है-

(a) केवल निम्न प्रतिरोध
(b) केवल उच्च प्रतिरोध
(c) निम्न तथा उच्च दोनों
(d) कुछ नहीं कहा जा सकता

Ans. (b) केवल उच्च प्रतिरोध

Q.43 L-C परिपथ में दोलनी धारा का समीकरण-

(a) i = q0ω0Sinωt
(b) i = q0ω0Cosωt
(c) i = ω0Sinωt
(d) i = q0Sinωt

Ans. (a) i = q0ω0Sinωt

Q.44 L-C-R परिपथ का गुणता कारक होता है-

(a) Q = \frac{ωL}{R}
(b) Q = \frac{ω}{R}
(c) Q = ωL
(d) Q = \frac{L}{R}

Ans. (a) Q = \frac{ωL}{R}

Q.45 प्रक्षेप धारामापी प्रयुक्त किया जाता है-

(a) रुक-रुक कर बहने वाली धारा का मान ज्ञात करने के लिए
(b) स्थाई धारा का मान ज्ञात करने के लिए
(c) प्रत्यावर्ती धारा का मान ज्ञात करने के लिए
(d) क्षणिक धारा का मान ज्ञात करने के लिए

Ans. (d) क्षणिक धारा का मान ज्ञात करने के लिए

Q.46 प्रक्षेप धारामापी के लिए सत्य कथन है-

(a) कुंडली का दोलन काल अधिक होना चाहिए
(b) कुंडली का अवमन्दन कम होना चाहिए
(c) कुंडली का जड़त्व आघूर्ण अधिक होना चाहिए तथा निलंबन तार पतला, लम्बा व कम दृढ़ता गुणांक के पदार्थ का होना चाहिए
(d) उपरोक्त सभी

Ans. (d) उपरोक्त सभी

Q.47 प्रक्षेप धारामापी में क्षणिक धारा प्रवाहित होने पर कुल आवेश-

(a) विक्षेप के अनुक्रमानुपाती होता है
(b) विक्षेप के व्युत्क्रमानुपाती होता है
(c) विक्षेप के वर्ग के अनुक्रमानुपाती होता है
(d) विक्षेप के वर्ग के व्युत्क्रमानुपाती होता है

Ans. (a) विक्षेप के अनुक्रमानुपाती होता है

Q.48 L-C-R परिपथ में दोलनी निरावेशन की आवृत्ति होती है-

(a) f = \frac{1}{2π} \sqrt{\frac{1}{LC} - \frac{R^2}{4L^2}}
(b) f = \sqrt{\frac{1}{LC} - \frac{R^2}{4L^2}}
(c) f = \frac{1}{2π} \sqrt{\frac{1}{LC}}
(d) f = \frac{1}{2π} \sqrt{\frac{R^2}{4L^2}}

Ans. (a) f = \frac{1}{2π} \sqrt{\frac{1}{LC} - \frac{R^2}{4L^2}}

और पढ़ें.. प्रत्यावर्ती धारा परिपथ क्या है?, परिभाषा, सूत्र व इसके प्रकार लिखिए।

Q.49 प्रत्यावर्ती धारा परिपथ में शक्ति क्षय होती है-

(a) केवल प्रतिरोध में
(b) केवल प्रेरकत्व में
(c) केवल संधारित्र में
(d) प्रतिरोध, प्रेरकत्व तथा संधारित्र तीनों में

Ans. (a) केवल प्रतिरोध में

Q.50 L-C-R प्रत्यावर्ती परिपथ की प्रतिबाधा Z है परिपथ का शक्ति गुणांक होता है-

(a) R/Z
(b) ωL/Z
(c) 1/ωCZ
(d) 1/ωCR

Ans. (a) R/Z

Q.51 L-C-R परिपथ का शक्ति गुणांक होता है-

(a) 1 से कम
(b) 1 से अधिक
(c) 1 के बराबर
(d) कुछ भी हो सकता है

Ans. (a) 1 से कम

Q.52 एक श्रेणीक्रम L-C-R परिपथ की अनुनादी आवृत्ति होती है-

(a) \frac{1}{2π} \sqrt{\frac{L}{C}}
(b) \frac{1}{2π \sqrt{LC}}
(c) \frac{1}{\sqrt{2πLC}}
(d) \frac{1}{2πLC}

Ans. (b) \frac{1}{2π \sqrt{LC}}

Q.53 L-C-R श्रेणी अनुनादी परिपथ-

(a) वोल्टेज का प्रवर्धन करता है
(b) धारा का प्रवर्धन करता है
(c) ग्राही परिपथ है
(d) अग्राही परिपथ है

Ans. (a) वोल्टेज का प्रवर्धन करता है

Q.54 अनुनाद की स्थिति में L-C-R प्रत्यावर्ती धारा परिपथ की प्रतिबाधा-

(a) विशुद्ध धारितीय होती है
(b) विशुद्ध प्रेरणिक होती है
(c) विशुद्ध प्रतिरोधक होती है
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (c) विशुद्ध प्रतिरोधक होती है

Q.55 एक श्रेणी L-C-R अनुनादी परिपथ की प्रतिबाधा-

(a) शून्य होती है
(b) अपरिमित होती है
(c) बहुत कम एवं परिमित होती है
(d) बहुत अधिक एवं परिमित होती है

Ans. (c) बहुत कम एवं परिमित होती है

और पढ़ें.. अनुनादी परिपथ क्या है? श्रेणी व समांतर, L-C-R श्रेणीक्रम परिपथ का आवेशन ज्ञात करों?

Q.56 अनुनादी आवृत्ति से अधिक आवृत्तियों पर एक श्रेणीबद्ध L-C-R परिपथ की प्रतिबाधा-

(a) प्रेरणिक होती है
(b) धारितीय होती है
(c) प्रतिरोधक होती है
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (a) प्रेरणिक होती है

Q.57 अनुनादी आवृत्ति से कम आवृत्तियों पर एक श्रेणीबद्ध L-C-R परिपथ की प्रतिबाधा-

(a) प्रेरणिक होती है
(b) धारितीय होती है
(c) प्रतिरोधक होती है
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (b) धारितीय होती है

Q.58 L-C-R परिपथ का गुणता कारक Q का मान होता है-

(a) Q = \frac{ωL}{R}
(b) Q = ωLR
(c) Q = \frac{1}{ωLR}
(d) Q = \frac{R}{ωL}

Ans. (a) Q = \frac{ωL}{R}

Q.59 एक श्रेणीबद्ध L-C-R प्रत्यावर्ती धारा परिपथ का बैण्ड विस्तार है-

(a) Q/ω
(b) R/L
(c) L/R
(d) ω/R

Ans. (b) R/L

Q.60 श्रेणी अनुनादी L-C-R परिपथ का गुणता कारक होता है-

(a) बैंड विस्तार के अनुक्रमानुपाती
(b) बैंड विस्तार के व्युत्क्रमानुपाती
(c) अनुनादी आवृत्ति के व्युत्क्रमानुपाती
(d) प्रतिबाधा के अनुक्रमानुपाती

Ans. (b) बैंड विस्तार के व्युत्क्रमानुपाती

Q.61 L-C-R समान्तर अनुनादी परिपथ-

(a) वोल्टेज का प्रवर्धन करता है
(b) धारा का प्रवर्धन करता है
(c) ग्राही परिपथ है
(d) अस्वीकारी परिपथ है

Ans. (a) वोल्टेज का प्रवर्धन करता है

Q.62 L-C-R समानान्तर अनुनादी परिपथ में अनुनाद की स्थिति में प्रतिबाधा-

(a) न्यूनतम होती है
(b) अधिकतम होती है
(c) प्रेरणिक तथा धारितीय प्रतिघातों के अंतर के बराबर होती है
(d) प्रतिरोध के बराबर होती है

Ans. (b) अधिकतम होती है

Q.63 एण्डरसन सेतु का उपयोग किया जाता है-

(a) केवल प्रेरकत्व मापने के लिए
(b) केवल धारिता मापने के लिए
(c) प्रेरकत्व तथा धारिता दोनों मापने में
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (a) केवल प्रेरकत्व मापने के लिए

Q.64 धारिता मापने में प्रयुक्त होता है-

(a) ओवेन सेतु
(b) एण्डरसन सेतु
(c) वीन सेतु
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans. (d) इनमें से कोई नहीं

Q.65 प्रत्यावर्ती धारा के r.m.s. मान तथा शिखर मान में संबंध होता है-

(a) Irms = 2I0
(b) I0 = Irms/√2
(c) Irms = I0/√2
(d) I0 = 2Irms

Ans. (c) Irms = I0/√2

Physics MCQs in Hindi, B.Sc. I Physics III book-Unit 1 MCQs in Hindi, 50+ Objective types Questions and Answers Physics in Hindi,

Read More –

  1. यान्त्रिकी एवं तरंग गति नोट्स (Mechanics and Wave Motion)
  2. अणुगति एवं ऊष्मागतिकी नोट्स (Kinetic Theory and Thermodynamics)
  3. मौलिक परिपथ एवं आधारभूत इलेक्ट्रॉनिक्स नोट्स (Circuit Fundamental and Basic Electronics)
Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *