50 Physics Objective Questions and Answer in Hindi | B.Sc. I, Physics II book-Unit 3

50 Physics Objective Questions and Answer in Hindi

प्रशन-1 चक्रीय प्रक्रम में आन्तरिक ऊर्जा में परिवर्तन –

(अ) अनन्त होता है
(ब) शून्य होता है
(स) P-V आरेख तथा आयतन अक्ष के बीच घिरे क्षेत्रफल के बराबर होता है
(द) ज्ञात नहीं किया जा सकता

उत्तर- (ब) शून्य होता है

प्रशन-2 ऊष्मागतिकी का प्रथम नियम सिद्धान्त है, संरक्षण-

(अ) संवेग का
(ब) ऊर्जा का
(स) संवेग तथा ऊर्जा दोनों का
(द) इनमें से कोई नहीं

उत्तर- (ब) ऊर्जा का

प्रशन-3 ऊष्मागतिकी का शून्यवां नियम संबन्धित है-

(अ) ताप से
(ब) ऊष्मा से
(स) आन्तरिक ऊर्जा से
(द) कार्य से

उत्तर- (अ) ताप से

प्रशन-4 साधारण ताप पर जूल थॉमसन प्रसार के समय शीतलन प्रदर्शित करती है-

(अ) हाइड्रोजन गैस
(ब) ऑक्सीजन गैस
(स) हीलियम गैस
(द) इसमें से कोई नहीं

उत्तर- (ब) ऑक्सीजन गैस

प्रशन-5 जूल थॉमसन प्रसार में कौन सा भौतिक गुण अचर रहता है-

(अ) आन्तरिक ऊर्जा
(ब) एन्थैल्पी
(स) गिब्स विभव
(द) दाब

उत्तर- (ब) एन्थैल्पी

प्रशन-6 जूल-केल्विन गुणांक होता है-

(अ) µ = ( \frac{dT}{dP} )H
(ब) η = ( \frac{dT}{dV} )H
(स) µ = ( \frac{dT}{dV} )U
(द) η = ( \frac{dT}{dP} )U

उत्तर- (अ) µ = ( \frac{dT}{dP} )H

प्रशन-7 एक आदर्श ऊष्मा इंजन के सिंक का ताप 100°C है। यदि स्त्रोत का ताप 800°C हो तो इंजन की दक्षता होगी-

(अ) 50%
(ब) 65.2%
(स) 89%
(द) 40%

उत्तर- (ब) 65.2%

प्रशन-8 एक आदर्श गैस ऊष्मीय इंजन ताप 227°C तथा 127°C के बीच किसी कार्नो चक्र में कार्यरत है। उच्च ताप पर यह 6 × 104 कैलोरी ऊष्मा अवशोषित करता है। ऊष्मा की कार्य में परिवर्तित मात्रा होगी-

(अ) 4.8 × 104 कैलोरी
(ब) 3.5 × 104 कैलोरी
(स) 1.6 × 104 कैलोरी
(द) 1.2 × 104 कैलोरी

उत्तर- (द) 1.2 × 104 कैलोरी

प्रशन-9 ऊष्मागतिकी के प्रथम तथा द्वितीय नियमों का संयुक्त रूप है-

(अ) T . dS = dU + P . dV
(ब) dQ = T . dS + P . dV
(स) dU = T . dS + dQ
(द) T . dS = dU = P . dV

उत्तर- (अ) T . dS = dU + P . dV

प्रशन-10 ऊष्मागतिकी के द्वितीय नियम का गणितीय स्वरूप है-

(अ) dQ = T.dS
(ब) dS = T.dQ
(स) dQ = dU + dW
(द) dQ = T.dS + P.dV

उत्तर- (अ) dQ = T.dS

प्रशन-11 समान गर्म व ठंडे स्त्रोतों के बीच में कार्य करने वाले समस्त उत्क्रमणीय इंजनों की दक्षता समान होती है। यह कथन है-

(अ) क्लाॅसियस प्रमेय
(ब) केल्विन प्लांक प्रमेय
(स) कार्नो प्रमेय
(द) मैक्सवेल प्रमेय

उत्तर- (स) कार्नो प्रमेय

प्रशन-12 कार्नो चक्र के P-V आरेख का क्षेत्रफल व्यक्त करता है-

(अ) प्रति चक्र निष्कासित ऊर्जा
(ब) प्रति चक्र अवशोषित ऊर्जा
(स) प्रति चक्र किया गया कार्य
(द) प्रति चक्र आयतन में परिवर्तन

उत्तर- (स) प्रति चक्र किया गया कार्य

प्रशन-13 कार्नो इंजन की दक्षता का मान है-

(अ) η = 1 – ( \frac{1}{ρ} )1 – γ
(ब) η = 1 – ( \frac{1}{ρ} )γ – 1
(स) η = 1 – (ρ)1 – γ
(द) η = 1 – ( \frac{1}{ρ} )γ

उत्तर- (ब) η = 1 – ( \frac{1}{ρ} )γ – 1

प्रशन-14 चक्रीय प्रक्रम में आन्तरिक ऊर्जा में परिवर्तन dU होता है-

(अ) dU < 0 (ब) dU > 0
(स) dU = 0
(द) dU \neq 0

उत्तर- (स) dU = 0

प्रशन-15 रुद्धोष्म प्रक्रम में किसी गैस के प्रसार में-

(अ) ताप अपरिवर्तित रहता है
(ब) ताप घटता है
(स) ताप बढ़ता है
(द) ताप पहले बढ़ता है फिर घटता है

उत्तर- (ब) ताप घटता है

प्रशन-16 किसी कार्नो इंजन की दक्षता 50 प्रतिशत है जबकि सिंक का ताप 7°C है। इसकी दक्षता 70% तक बढ़ाने के लिए स्त्रोत के ताप में वृद्धि करनी होगी-

(अ) 280°
(ब) 560°
(स) 373.3°
(द) 933.3°

उत्तर- (स) 373.3°

प्रशन-17 127°C तथा 27°C के बीच कार्यरत कार्नो इंजन की दक्षता होगी-

(अ) 25%
(ब) 50%
(स) 75%
(द) 100%

उत्तर- (अ) 25%

प्रशन-18 एण्ट्रॉपी का मात्रक है-

(अ) जूल
(ब) जूल K
(स) जूल/K
(द) K

उत्तर- (स) जूल/K

प्रशन-19 एक पूर्ण कार्नो चक्र में एण्ट्रॉपी परिवर्तन का बीजगणितीय योग है-

(अ) धनात्मक
(ब) ऋणात्मक
(स) शून्य
(द) इनमें से कोई नहीं

उत्तर- (स) शून्य

प्रशन-20 निम्न में से कौन उत्क्रमणीय प्रक्रम को दर्शाता है-

(अ) dS < 0 (ब) dS = 0 (स) dS > 0
(द) इनमें से कोई नहीं

उत्तर- (ब) dS = 0

प्रशन-21 क्लाॅसियस-क्लैपराॅन समीकरण है-

(अ) \frac{dP}{dT} = \frac{T}{L(V_2 - V_1)}
(ब) \frac{dP}{dT} = \frac{T}{L} (V2 – V1)
(स) \frac{dP}{dT} = \frac{L}{T(V_2 - V_1)}
(द) \frac{dP}{dT} = \frac{L}{T} (V2 – V1)

उत्तर- (स) \frac{dP}{dT} = \frac{L}{T(V_2 - V_1)}

प्रशन-22 मैक्सवेल का प्रथम ऊष्मागतिकी समीकरण है-

(अ) ( \frac{∂T}{∂V} )S = – ( \frac{∂P}{∂S} )V
(ब) ( \frac{∂T}{∂V} )S = – ( \frac{∂S}{∂P} )V
(स) ( \frac{∂V}{∂T} )S = ( \frac{∂P}{∂S} )V
(द) ( \frac{∂T}{∂V} )P = ( \frac{∂P}{∂S} )V

उत्तर- (अ) ( \frac{∂T}{∂V} )S = – ( \frac{∂P}{∂S} )V

प्रशन-23 किसी पदार्थ के लिए रुद्धोष्म तथा समतापी प्रत्यास्थताओं की निष्पत्ति पदार्थ की स्थिर दाब तथा स्थिर आयतन पर विशिष्ट ऊष्माओं के-

(अ) योग के बराबर होती हैं
(ब) अन्तर के बराबर होती है
(स) निष्पत्ति के बराबर होती है
(द) गुणनफल के बराबर होती है

उत्तर- (स) निष्पत्ति के बराबर होती है

प्रशन-24 वास्तविक गैस के लिए जूल थॉमसन गुणांक है-

(अ) µ = \frac{1}{C_P} [ \frac{2a}{RT} – b]
(ब) µ = \frac{1}{C_V} [ \frac{2a}{RT} – b]
(स) µ = \frac{1}{C_V} [ \frac{2a + b}{RT} ]
(द) µ = \frac{1}{C_P} [ \frac{2a}{RT} + b]

उत्तर- (अ) µ = \frac{1}{C_P} [ \frac{2a}{RT} – b]

प्रशन-25 आदर्श गैस के लिए जूल थॉमसन गुणांक का मान होता है-

(अ) शून्य
(ब) अनन्त
(स) धनात्मक
(द) ऋणात्मक

उत्तर- (अ) शून्य

प्रशन-26 एक पूर्ण चक्र के लिए होता है-

(अ) P.dV = T.dS
(ब) dU + PdV = T.dS
(स) P.dV < T.dS
(द) dU = T.dS

उत्तर- (अ) P.dV = T.dS

प्रशन-27 ऊष्मागतिक विभव है-

(अ) P, V, T व S
(ब) U, F, G व H
(स) S, F, G व H
(द) T, F, G व H

उत्तर- (ब) U, F, G व H

प्रशन-28 दाब बढ़ाने पर बर्फ का गलनांक-

(अ) अपरिवर्तित रहता है
(ब) बढ़ता है
(स) कम होता है
(द) कुछ नहीं कहा जा सकता

उत्तर- (स) कम होता है

प्रशन-29 जूल थॉमसन प्रभाव के अनुसार सरन्ध्र डाॅट प्रयोग में यदि गैस का ताप T –

(अ) < \frac{2a}{Rb} है तो गैस ठण्डी हो जाएगी

(ब) > \frac{2a}{Rb} है तो गैस गर्म हो जाएगी
(स) = \frac{2a}{Rb} है तो गैस के ताप में कोई परिवर्तन नहीं होगा
(द) उपर्युक्त सभी सत्य हैं

उत्तर- (द) उपर्युक्त सभी सत्य हैं

प्रशन-30 हिलियम गैस के लिए व्युत्क्रमण ताप है-

(अ) – 80°C
(ब) – 243°C
(स) 0°C
(द) 0 K

उत्तर- (ब) – 243°C

प्रशन-31 समुन्द्र तल की अपेक्षा पहाड़ों का जल कम ताप पर ही उबलने लगता है क्योंकि-

(अ) पहाड़ों पर वायुदाब कम होता है
(ब) पहाड़ों पर वायु का ताप कम होता है
(स) पहाड़ों पर वायु का घनत्व कम होता है
(द) पहाड़ों पर जल में अशुद्धि मिली होती है

उत्तर- (अ) पहाड़ों पर वायुदाब कम होता है

प्रशन-32 एक आदर्श ऊष्मा इंजन दो तापों 600 K और 900 K के बीच संचालित हो रहा है। इंजन की दक्षता है-

(अ) 50%
(ब) 80%
(स) 10%
(द) 33%

उत्तर- (द) 33%

प्रशन-33 एक रुद्धोष्म प्रक्रम में एण्ट्रॉपी परिवर्तन होगा-

(अ) धनात्मक
(ब) ऋणात्मक
(स) धनात्मक तथा ऋणात्मक
(द) शून्य

उत्तर- (द) शून्य

प्रशन-34 T-S आरेख पर समतापीय रेखाएं होती हैं-

(अ) S-अक्ष के समानान्तर
(ब) T-अक्ष के समानान्तर
(स) किसी झुकाव पर
(द) 45° के झुकाव पर

उत्तर- (अ) S-अक्ष के समानान्तर

प्रशन-35 वास्तविक गैस के लिए निश्चित दाब पर विशिष्ट ऊष्मा CP एवं निश्चित आयतन पर विशिष्ट ऊष्मा CV का अन्तर है-

(अ) R
(ब) R (1 + \frac{2a}{RTV} )
(स) R (1 – \frac{2a}{RTV} )
(द) R-1

उत्तर- (ब) R (1 + \frac{2a}{RTV} )

प्रशन-36 किसी अनुत्क्रमणीय इंजन के पूर्ण चक्र में एण्ट्रॉपी परिवर्तन होता है-

(अ) ऋणात्मक
(ब) धनात्मक
(स) शून्य
(द) इंजन की दक्षता पर निर्भर करता है

उत्तर- (ब) धनात्मक

प्रशन-37 फोर स्ट्रोक चक्र ऊष्मा इंजन में शक्ति प्रदान होती है केवल-

(अ) प्रथम स्ट्रोक
(ब) द्वितीय स्ट्रोक
(स) तृतीय स्ट्रोक
(द) चतुर्थ स्ट्रोक

उत्तर- (स) तृतीय स्ट्रोक

प्रशन-38 परम मापक्रम पर ताप का ऋणात्मक मान-

(अ) सम्भव है
(ब) असम्भव है
(स) कभी सम्भव है कभी असम्भव
(द) इनमें से कोई नहीं

उत्तर- (ब) असम्भव है

प्रशन-39 प्रकृति में प्रत्येक भौतिक रासायनिक प्रक्रिया इस प्रकार होती है कि निकाय की एण्ट्रॉपी में-

(अ) सदैव कमी हो
(ब) कोई परिवर्तन न हो
(स) सदैव वृद्धि हो
(द) वृद्धि हो या नियत रहे

उत्तर- (द) वृद्धि हो या नियत रहे

प्रशन-40 बर्क के लिए गलन की गुप्त ऊष्मा 80 कैलोरी/ग्राम है जब 0°C पर 1 किलोग्राम बर्फ उसी ताप पर जल में परिवर्तित की जाती है तो एण्ट्रॉपी में परिवर्तन होगा-

(अ) 273 कैलोरी/K
(ब) 313 कैलोरी/K
(स) 293 कैलोरी/K
(द) 500 कैलोरी/K

उत्तर- (स) 293 कैलोरी/K

प्रशन-41 एण्ट्रॉपी नियत रहती है-

(अ) समतापी प्रक्रम में
(ब) समदाबी प्रक्रम में
(स) रुद्धोष्म प्रक्रम में
(द) चक्रीय प्रक्रम में

उत्तर- (स) रुद्धोष्म प्रक्रम में

प्रशन-42 किसी आदर्श गैस के लिए CP – CV का मान होगा-

(अ) TEα2V
(ब) TEαV2
(स) T2EαV
(द) TE2α2V

उत्तर- (अ) TEα2V

प्रशन-43 सही संबंध है-

(अ) G = H + P.V
(ब) G = U + P.V
(स) G = U – T.S
(द) G = U + P.V – T.S

उत्तर- (द) G = U + P.V – T.S

प्रशन-44 हेल्महोल्ट्ज फलन है-

(अ) F = U – T.S + P.V
(ब) F = U + T.S
(स) F = U + T.S – P.V
(द) F = U – T.S

उत्तर- (द) F = U – T.S

प्रशन-45 ऊष्मागतिकी का तीसरा नियम है-

(अ) ∆S ≥ 0
(ब) limS/T→0 → 0
(स) ∆S = 0
(द) ∆S > 0

उत्तर- (ब) limS/T→0 → 0

प्रशन-46 किसी ऊष्मागतिक निकाय की एन्थैल्पी H का मान है-

(अ) H = U – T.S
(ब) H = U + P.V
(स) H = U – T.S + P.V
(द) H = P.V – T.S

उत्तर- (ब) H = U + P.V

प्रशन-47 निकाय की अवस्था का फलन नहीं है-

(अ) U
(ब) W
(स) F
(द) H

उत्तर- (ब) W

प्रशन-48 गिब्स विभव का मान है-

(अ) G = H – T.S
(ब) G = H + T.S
(स) G = U – P.V – T.S
(द) G = U + P.V

उत्तर- (अ) G = H – T.S

प्रशन-49 निम्नलिखित में से कौन सा प्रक्रम उत्क्रमणीय है-

(अ) अवस्था परिवर्तन
(ब) विकिरण
(स) ऊष्मा चालन
(द) विसरण

उत्तर- (अ) अवस्था परिवर्तन

प्रशन-50 सौर ऊष्मांक का मान होता है-

(अ) 2 कैलोरी प्रति सेमी2 प्रति मिनट
(ब) 2 कैलोरी प्रति सेमी2 प्रति सेकण्ड
(स) 2 कैलोरी प्रति मीटर2 प्रति मिनट
(द) 2 कैलोरी प्रति मीटर2 प्रति सेकण्ड

उत्तर- (अ) 2 कैलोरी प्रति सेमी2 प्रति मिनट

50 Physics Objective Questions and Answer in Hindi, Physics Objective Questions and Answer in Hindi, objective question with Answer for physics, physics objective question in Hindi pdf, physics mcq in Hindi, MCQ on physics in Hindi,

Read more :-

Read More –

  1. यान्त्रिकी एवं तरंग गति नोट्स (Mechanics and Wave Motion)
  2. अणुगति एवं ऊष्मागतिकी नोट्स (Kinetic Theory and Thermodynamics)
  3. मौलिक परिपथ एवं आधारभूत इलेक्ट्रॉनिक्स नोट्स (Circuit Fundamental and Basic Electronics)
Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *