CB CE तथा CC ट्रांजिस्टर प्रर्वधकों की विशेषताओं की तुलना कीजिए?

प्रशन 1 – CB (उभयनिष्ठ-आधार), CE (उभयनिष्ठ-उत्सर्जक) तथा CC (उभयनिष्ठ-संग्राहक) ट्रांजिस्टर प्रवर्धकों की विशेषताओं में अन्तर स्पष्ट कीजिए।

CB CE तथा CC ट्रांजिस्टर प्रर्वधकों की विशेषताओं की तुलना

क्र.गुणCB (उभयनिष्ठ-आधार) प्रवर्धकCE (उभयनिष्ठ-उत्सर्जक) प्रवर्धकCC (उभयनिष्ठ-संग्राहक) प्रवर्धक
1.इनपुट प्रतिरोध (Rin या R1)बहुत कम (~ 100Ω)अधिक (~ 200 से 800Ω)बहुत अधिक (~ 5 kΩ)
2.आउटपुट प्रतिरोध (Rout या R2)बहुत अधिक (~ 104Ω)कम (~ 20 kΩ)बहुत कम (~ 20Ω)
3.धारा लाभ1 से थोड़ा कमअधिक (~ 49)अधिक (~ 50)
4.वोल्टेज लाभअधिक (~ 100)बहुत अधिक (~ 1000)1 से थोड़ा कम
5.शक्ति लाभमध्यमबहुत अधिकमध्यम
6.इनपुट व आउटपुट वोल्टेज में कलान्तर0° (या समान कला)180° (विपरीत कला)0° (या समान कला)

नोट – विद्यार्थी ध्यान दें कि इन तीनों ट्रांजिस्टर प्रर्वधकों के बारे में हमनें विस्तार से समझाया है, जिसके अध्याय नीचे दिए गए हैं। आप उन्हें जरूर पढ़ें ताकि आप उभयनिष्ठ-आधार (C-B), उभयनिष्ठ-उत्सर्जक (C-E) तथा उभयनिष्ठ-संग्राहक (C-C) ट्रांजिस्टर प्रवर्धक का संपूर्ण ज्ञान प्राप्त कर सकें।

उभयनिष्ठ-आधार, उभयनिष्ठ-उत्सर्जक तथा उभयनिष्ठ-संग्राहक ट्रांजिस्टर प्रवर्धकों की विशेषताओं में क्या अन्तर होता है स्पष्ट कीजिए। सीई सीसी और सीबी विन्यास में क्या अंतर है?, Compare CB CE and CC configuration of transistor in Hindi, CB CE CC configuration and characteristics in Hindi, CB CE तथा CC ट्रांजिस्टर प्रर्वधकों की विशेषताओं की तुलना किस प्रकार की जाती है,

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *