‘I’ आकार के गार्डर क्यों बनाए जाते हैं | ‘I’ Shaped Girders in Hindi

गार्डरों का आकार ‘I’ क्यों होता है

माना जब किसी गार्डर के दोनों सिरों को स्थिर कर दिया जाता है। अतः “गार्डरों का आकार ‘I’ की भांति होता है। जिसमें उसके ऊपरी व निचले भाग की चौड़ाई मध्य भाग की अपेक्षा बहुत अधिक होती है। इस प्रकार गार्डरों की सामर्थ्य को कम किए बिना ही पदार्थ का पर्याप्त भाग बचा लिया जाता है” अतः सिरों पर आधारित तथा मध्य में भारित दण्ड के मध्य बिन्दु पर अवनमन δ का व्यांजक इस प्रकार से ज्ञात होता है।

δ = \frac{Mgl^3}{4Ybd^3}

  1. δ ∝ l3, 2. δ ∝ 1/b, 3. δ ∝ 1/d3, 4. δ ∝ 1/Y, 5. δ ∝ Mg

अतः गार्डर कम झुके इसके लिए आवश्यक होता है। की लम्बाई l कम हो, साथ ही चौड़ाई b तथा मुख्यतः मोटाई d अधिक हो तथा गार्डर के पदार्थ का Y का मान अधिक होना चाहिए।

जब गार्डर सिरों पर आधारित होता है। तब जो उदासीन प्रष्ठ के ऊपर के तन्तु ‘सम्पीडित’ तथा उससे नीचे के तन्तु ‘विस्तारित’ होते हैं। यह सम्पीडन तथा विस्तारन क्रमशः गार्डर के ऊपरी तथा निचले फलकों पर अधिकतम होता है। अतः इन फलकों पर प्रतिबल अधिकतम होता है। तथा यह उदासीन पृष्ठ की ओर चलने पर कम होता जाता है। अतः गार्डर के ऊपरी और निचले फलक के मध्य भाग से अधिक मजबूत होने चाहिए। अर्थात् गार्डर का मध्य भाग ऊपरी व निचले फलकों की अपेक्षा कम मोटाई का बनाया जा सकता है।

और पढ़ें.. कैण्टीलीवर क्या है, स्वतन्त्र सिरे पर अवनमन का व्यंजक

दण्ड के बंकन आघूर्ण द्वारा Y का मान ज्ञात करना

माना यदि दो सिरों पर आधारित तथा मध्य में भारित दण्ड का अवनमन के लिए व्यांजक ज्ञात किया जाता है। तो

δ = \frac{Mgl^3}{4Ybd^3}

या Y = \frac{Mgl^3}{4bd^3δ}

अतः इस प्रकार Y का मान समायोजन प्रयोगों में लाए जाते हैं। दूरी पर स्थित दो क्षुरधारों पर एक दण्ड को क्षैतिज स्थिति में रख देते हैं।

दण्ड के बंकन द्वारा Y का मान
दण्ड के बंकन द्वारा Y का मान

एक हैंगर जो एक क्षुरधार पर रखा जाता है। बीच में लटका दिया जाता है। और इस पर बाॅट चढ़ाये – उतारे जा सकते हैं। भार के कारण पैदा हुआ अवनमन एक माइक्रोमीटर स्क्रु या गोलाईमापी द्वारा ज्ञात कर लेते हैं। अतः अब X -अक्ष पर M तथा Y -अक्ष पर δ के मानों में एक ग्राफ खींच लिया जाता है। इस प्रकार जो कि एक सरल रेखा आती है। इसका ढाल δ/M के मान को बताता है। अतः

Y = \frac{M}{δ} \frac{gl^3}{4bd^3}

यहां l, b, d, M/δ के मानों को रखकर Y का मान ज्ञात कर लेते हैं।

Note – संबंधित प्रश्न –
Q.1 छतों को रोकने के लिए गार्डर I के आकार के क्यों बनाए जाते हैं? समझाइए?
Q.2 सिध्द कीजिए कि गार्डरो का आकार ‘I’ के आकार का क्यों रखा जाता है?
Q.3 दण्ड के बंकन आघूर्ण द्वारा Y का मान निकालना चित्र द्वारा समझाइए?

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *