विशिष्ट ध्वनिक प्रतिबाधा से क्या समझते है | Specific Acoustic Impendence in Hindi

विशिष्ट ध्वनिक प्रतिबाधा क्या है

यदि किसी माध्यम में ध्वनि के संचरण के कारण उत्पन्न होने वाले अवरोध को “ध्वनिक प्रतिबाधा” कहते हैं।
जब एक ध्वनि तरंग किसी माध्यम से गुजरती है। तो उसमें दाब परिवर्तित होता है। किसी कण पर अतिरिक्त दाब तथा कण के वेग के अनुपात को विशिष्ट ध्वनिक प्रतिबाधा कहते हैं। तथा इसे भी Z से प्रदर्शित करते हैं।
अतः विशिष्ट ध्वनिक प्रतिबाधा

Z = \frac{अतिरिक्त दाब}{कण का वेग}

Z = \frac{p}{u} ….(1)

अतः हम जानते हैं कि अतिरिक्त दाब

p = – E \frac{∂y}{∂x} …..(2)

जिसमें E माध्यम की आयतन प्रत्यास्थता है।
धनात्मक X-अक्ष की दिशा में चलने वाली समतल प्रगामी तरंग का समीकरण है। अतः

y = asin(ωt – \frac{x}{v} ) ….(3)

जिसमें v तरंग का वेग तथा ω कोणीय आवृत्ति है।
समीकरण 3 को t के सापेक्ष अवकलन करने पर,

कण का वेग u = \frac{∂y}{∂x}

u = aωcos(ωt – \frac{x}{v} ) ….(4)

समीकरण 3 को x के सापेक्ष अवकलन करने पर,

ढाल \frac{∂y}{∂x} = – a \frac{ω}{v} cos(ωt – \frac{x}{v} ) ….(5)

समीकरण 4 में 5 से भाग देने पर,

\frac{u}{ \frac{∂y}{∂x}} = – v

या u = – v \frac{∂y}{∂x} ….(6)

समीकरण 2 व 6 से p के मान समीकरण 1 में रखने पर,

Z = \frac{- E \frac{∂y}{∂x}}{- v \frac{∂y}{∂x}}

या Z = \frac{E}{v} ….(7)

परन्तु तरंग वेग v = \sqrt{ \frac{E}{ρ}} जिसमें ρ माध्यम का घनत्व है। अतः

E = ρv2 …..(8)

यह मान समीकरण 7 में रखने पर,

Z = \frac{E}{v}
या Z = \frac{ρv^2}{v}

\footnotesize \boxed{ Z = ρv }

अतः “यही विशिष्ट ध्वनिक प्रतिबाधा के लिए व्यंजक है।”

Note – सम्बन्धित प्रश्न –
Q. 1 विशिष्ट ध्वनिक प्रतिबाधा से आप क्या अभिप्राय है? इसके लिए व्यंजक स्थापित कीजिए ?
Q. 2 विशिष्ट ध्वनिक प्रतिबाधा से क्या तात्पर्य है ? इसकी परिभाषा तथा सूत्र दीजिए ?

Share This Post

One thought on “विशिष्ट ध्वनिक प्रतिबाधा से क्या समझते है | Specific Acoustic Impendence in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *